Image result for modi and jinping

नई दिल्ली
डोकलाम के मुद्दे पर पड़ोसी मुल्क चीन भले ही भड़काऊ बयानों के जरिए दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन भारत अपने रुख पर कायम रहेगा। सूत्रों ने खबर ने दी है कि अगर चीन किसी भी तरीके से भूटान को धमकाने की कोशिश करता है तो भारत राजनीतिक या सैन्य तरीके से वाजिब प्रतिरोध की नीति अपनाएगा।हालांकि, इस दौरान राजनीतिक या कूटनीतिक स्तर पर सिक्किम सीमा पर महीने भर से ज्यादा वक्त से जारी इस टकराव को दूर करने की कोशिशें भी जारी रखी जाएंगी

भारतीय सेना पूरी तरह से तैयार 
भारत ने सिक्किम-भूटान-तिब्बत ट्राइजंक्शन पर सैन्य मौजूदगी आहिस्ते-आहिस्ते मजबूत कर ली है। समुद्र से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित इस क्षेत्र में अतिरिक्त सेना की तैनाती की जा रही है। ये सैनिक किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं। उधर, जहां भारत और चीन के जवान आमने-सामने सटे हुए हैं, वहां दोनों देशों के महज 300 से 400 सैनिक ही डटे हुए हैं। ये सैनिक टेंट लगाकर एक दूसरे को लाल झंडे दिखाते हुए मौके पर बने हुए हैं। हालांकि, आसपास के इलाकों में भारत ने अपनी सैन्य मौजूदगी मजबूत की है। एक सूत्र ने बताया, ‘हमारी सैन्य टुकड़ियां इस क्षेत्र में ज्यादा बेहतर पोजिशन में तैनात हैं। चीनी सेना के मुकाबले उन्हें बेहतर साजोसामान की सप्लाई उपलब्ध है।’ हालांकि, भारतीय एजेंसियां इस इलाके में चीनी पीपल्स लिब्रेशन आर्मी की किसी भी तरह के बड़े मूवमेंट पर नजर रखे हुए है।

आग में घी डाल रहा चीनी मीडिया 
भारत की कूटनीतिक कोशिशों के बीच चीन और उसकी सरकार नियंत्रित सरकारी मीडिया भारत के खिलाफ जुबानी जंग जारी रखे हुए हैं। कई लेखों के जरिए न केवल चीन के कदम को सही बताया गया, बल्कि सीधे तौर पर युद्ध की धमकियां दी गईं। वहीं, एक सूत्र ने कहा, ‘चीन को पूर्ववत स्थिति बनाए रखना चाहिए। उसने डोकलाम इलाके में सड़क बनाने की कोशिश करके इस स्थिति को बदलने की कोशिश की है।’ भारत चाहता है कि चीन 2012 के उस समझौते का पालन करे जिसके तहत दोनों देशों के दो खास प्रतिनिधि भूटान के साथ बातचीत करके ट्राइजंक्शन सीमा के विवाद को हल करने की कोशिश करेंगे। सूत्र ने बताया, ‘भारत भूटान की मदद के लिए तब आगे आया, जब चीनी सैन्य टुकड़ी भूटान के इलाके डोकलाम में घुस आई। चीनी सेना ने बंदूकों के दम पर भूटानी सैनिकों को पीछे धकेल दिया।’

डोभाल निकाल पाएंगे हल?
भारतीय एनएसए अजीत डोभाल गुरुवार को ब्रिक्स देशों के एनएसए की बैठक में शामिल होने चीन जाने वाले हैं। यहां चीनी एनएसए के साथ दि्वपक्षीय बातचीत में डोकलाम विवाद का हल निकलने की उम्मीद जताई जा रही है। सूत्रों के मुताबिक, डोभाल की कोशिश यही रहेगी कि पीएम नरेंद्र मोदी के 5 और 6 सितंबर को ब्रिक्स दौरे से पहले इस विवाद को सुलझा लिया जाए। हालांकि, इस टकराव का कोई हल निकलता नहीं नजर आ रहा क्योंकि चीन अपने रुख पर अड़ा हुआ है। वह चाहता है कि इस इलाके से भारत बिना किसी शर्त सेना हटाएं। वहीं, भारत ने कहा है कि इस विवाद पर कोई बातचीत तभी होगी, जब चीन और भारत, दोनों ही वहां से अपनी सेनाएं हटाएं। इससे पहले, भारतीय सेना के वाइस चीफ लेफ्टिनेंट जनरल शरत चंद ने कहा कि चीन भविष्य में भी भारत के लिए खतरा बना रहेगा।

सीमा विवाद पैदा करना चीन की नीति
हाल के वर्षों में चीन की विदेश नीति में अपने पड़ोसी देशों के साथ सीमा को लेकर विवाद पैदा करना शामिल रहा है। अभी चीन का भारत और भूटान के साथ सीमा को लेकर विवाद रहा है, वहीं ईस्ट चाइना सी में जापान और साउथ चाइना सी (SCS) क्षेत्र में बहुत से दक्षिण एशियाई देशों के साथ समुद्री सीमा को लेकर वह गलत दावे कर रहा है। ट्रंप सरकार की अगुआई में एशिया पैसिफिक में अमेरिका की भूमिका को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं होने का चीन फायदा उठाना चाहता है। इस वजह से वह सीमा विवाद पैदा कर अपना दबदबा बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। इससे चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की अक्टूबर में शुरू होने वाली पार्टी कांग्रेस से पहले स्थिति भी और मजबूत हो सकती है। जानकारों का कहना है कि सिक्किम के डोकलाम में जो हो रहा है, वह ईस्ट चाइना सी या साउथ चाइना सी में हो रही घटनाओं से अलग नहीं है। इससे चीन की अतिक्रमण करने की नीति का पता चलता है।

http://nationnews.in.net/wp-content/uploads/2017/07/nnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn.jpghttp://nationnews.in.net/wp-content/uploads/2017/07/nnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn-150x150.jpgnation_firstspecialटॉप 10नई दिल्ली डोकलाम के मुद्दे पर पड़ोसी मुल्क चीन भले ही भड़काऊ बयानों के जरिए दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन भारत अपने रुख पर कायम रहेगा। सूत्रों ने खबर ने दी है कि अगर चीन किसी भी तरीके से भूटान को धमकाने की कोशिश करता है तो भारत...NATION FIRST TODAY
loading...